दिनांक 10/05/2019 माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद के मुख्य न्यायमूर्ति श्री गोविंद माथुर व न्यायमूर्ति श्री सौरभ श्याम शमशेर की पीठ ने मेरठ रेड लाइट एरिया के संदर्भ में सुनवाई में शासकीय अपर महाधिवक्ता मौजूद ना होने पर सरकार की तरफ से कहा गया कि आज की सुनवाई टाल कर किसी अन्य दिन रख दी जाए जिस पर प्रदेश के रेड लाइट एरिया को बंद कराने की मुहिम चलाने वाले ,ज्योति वेलफेयर सोसायटी उत्तरप्रदेश के अध्यक्ष अधिवक्ता हाई कोर्ट श्री सुनील चौधरी याची ने उच्च न्यायालय से आग्रह किया कि सरकार कोई भी कार्यवाही न कर सिर्फ मामले को टालना चाहती है।मां उच्च न्यायालय को अधिवक्ता सुनील चौधरी ने बताया कि पूर्व में दो बार माननीय उच्च न्यायालय ने झूठा शपथ पत्र दाखिल किए जाने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश पारित किया था व प्रार्थी के परिवार को प्रदेश के दलालों से जान का खतरा होने पर तत्काल सुरक्षा दिए जाने का आदेश भी पारित हुआ था।अभी तक कोई भी कारीवाहि नही हुई। इस पर माननीय उच्च न्यायालय ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रशासन को अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने का आदेश व मेरठ जिले में 75 कोठों को तत्काल बंद किए जाने का भी आदेश पारित किया जो सीएमओ की रिपोर्ट के माध्यम से याची को पता चला था। याची अधिवक्ता सुनील चौधरी ने ज्योति वेलफेयर सोसाइटी उत्तरप्रदेश के माध्यम से मेरठ मे जबरन देहव्यापार में फसी 400 लड़कियों को मुक्त कराए जाने की मांग की जिसका याची की संस्था रजिस्टर्ड संस्था ने रेकी कर कोठो व सेक्सवर्करो को चिन्हित किया है ।इस पर कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए अनैतिक व्यापार निवारण अधिनियम के तहत 75 कोठो को बंद कराए जाने का आदेश पारित किया और जिलाप्रशासन को कारीवाहि के पश्चात व्यक्तिगत सपथ पत्र दाखिल करने को भी आदेश पारित किया साथ ही अधिवक्ता सुनील चौधरी की सुरछा को लेकर डीएम इलाहाबाद को पुनः आदेश पारित किया कि याची को तत्काल सुरक्षा प्रदान करें वहीं अधिवक्ता सुनील चौधरी को मेरठ के 4 महिला कोठा संचालिकाओं की ओर से पक्षकार बनाए जाने हेतु प्रार्थना पत्र पर हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अधिवक्ता श्री राकेश पांडे जी के द्वारा impleadment एप्लीकेशन(पछकार बनाये जाने हेतु प्रार्थना पत्र) पर कोई बहस नहीं हुई और न ही किसी अधिवक्ता ने चारो महिलाओ की तरफ से कोर्ट में अपना पछ रखा। मां न्यायालय ने अगली सुनवाई 29 मई नियत की है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *