उत्तराखंड पावर कारपोरेशन लिमिटेड के अधिकारियों ने बिना किसी मंजूरी के पंजाब नेशनल बैंक से रुपए 500000000/का लोन लेकर बैंक आफ बड़ौदा की किशन नगर देहरादून ब्रांच में F D कर दी,फिर दो दिन बाद बैंक आफ बड़ौदा से रुपए 500000000/ लोन लेकर पंजाब नेशनल बैंक बैंक को दे दिया।
बैंक आफ बड़ौदा को हर महीने करीब रुपए 325000/ का भुगतान ब्याज के रूप में किया जा रहा है , लगभग रुपए 60000000/ब्याज दिया जा चुका है।
उत्तराखंड पावर कारपोरेशन लिमिटेड जो बिजली खरीदता है उसके बिलों का भुगतान समय पर करने पर उसे नगद छूट (Cash Discount) मिलता है ।
मार्च 2018 में पावर कारपोरेशन को Energy billing का भुगतान समय पर न करने के कारण करीब रुपए 220000000/नगद छूट का नुक़सान हुआ है।
यह मात्र एक उदाहरण है , ऐसे प्रकरण और ना जाने कितने और होगें ।
उत्तराखंड पावर कारपोरेशन के अधिकारियों ने रुपए 50/ करोड की एफ डी करने में लाभ दिखाई दिया लेकिन Energy billing पर मिलने वाली नगद छूट पर नुकसान । और जो हर महीने ब्याज दिया जा रहा है वो अलग नुकसान हो रहा है।
और यह सारे नुकसान हर साल आमजन के सिर मढ़कर टैरिफ बड़ा दिया जाता है । और आमजन इसे सिर झुका कर अपनी नियति समझ स्वीकार कर लेता है।
लेकिन मैं इसे अपनी नियति मान कर स्वीकार नहीं कर सकता इसके लिए जो लड़ाई लड़नी है मैं उसकी तैयारी में हूं, काफी हदतक मेरी तैयारी पूरी हो चुकी है बस अब एक आखरी चोट मारनी बाकी है उम्मीद है इसी महीने में वो चोट भी पड़ जाए।
आमजन की शुभकामनाएं रही तो विजय निश्चित है।

आरटीआई क्लब उत्तराखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *