कई दफे प्रशासन को कराया अवगत लेकिन जिम्मेदार नहीं दे रहे हैं ध्यान

ायबरेली- भू-माफियाओं का आतंक सर चढ़कर बोल रहा है भू-माफियाओं के हौसले इतने बढ़ गए हैं कि उन्होंने 70 वर्षीय क्षेत्रीय समाचार पत्र के संपादक की भूमि को भी नहीं छोड़ा। मामला रायबरेली सदर का है क्षेत्रीय समाचार पत्र के संपादक राकेश प्रताप सिंह के पुत्र के नाम भूमि दर्ज है जिसके पर्याप्त दस्तावेज भी है पीड़ित जब अवैध कब्जा जमाए भूमाफिया इंद्र मोहन शुक्ला ग्राम कोरिहर जिला रायबरेली के पास अपना कब्जा मांगने गया तो उसने संपादक को अपमानित करते हुए नसीहत दी कि दुबारा इस जमीन पर ध्यान दिया तो अंजाम बहुत बुरा होगा यही नहीं उसने जमीन पर कब्जा ना लेने की नसीहत दी। पीड़ित राकेश प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल जिला अधिकारी पुलिस अधीक्षक डीजीपी उत्तर प्रदेश के ईमेल पर शिकायती पत्र भेजकर कार्यवाही करने की मांग की है। प्रार्थना पत्र में समाचार पत्र के संपादक राकेश प्रताप सिंह ने बताया है कि उनके पुत्र भरत सिंह के नाम दर्ज भूमि पर दबंग व्यक्ति इंद्र मोहन शुक्ला निवासी ग्राम कोरिहर जिला रायबरेली ने कब्जा कर लिया है। उन्होंने लिखा है अपने 70 साल के जीवन में जनता के लिए व प्रशासन के साथ पत्रकारिता का फर्ज निभाया है गलत को गलत सच को सच लिखा है और आज उनकी भूमि पर अवैध कब्जा है। प्रार्थी की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। उन्होंने कई बार पोर्टल के माध्यम से व प्रशासन को पत्र देकर अवगत करा कर अवैध कब्जा हटाने हेतु मांग की लेकिन उनकी मांगों को सुना नहीं गया और जमीन पर आज तक कब्जा जस का तस दबंग व्यक्ति किए हुए हैं। उन्होंने बताया कि उनकी भूमि संख्या-2164 ग्राम कोरिहर जिला रायबरेली में बतौर सहखातेदार दर्ज स्थित में है जिसमें उनके पुत्र की आधी हिस्सेदारी है परंतु सहखातेदार ने बदनियति दिखाते हुए उनकी जमीन पर कब्जा कर लिया है और धमकाने लगे हैं। इसकी शिकायत उन्होंने कई बार थाने व प्रशासन से लिखित व मौखिक रूप से की परंतु कोई कार्यवाही नहीं हुई उन्होंने मौजूद व्यवस्था के जरिए प्रार्थना पत्र भेजकर यथाशीघ्र कब्जा दिलाए जाने की मांग की है। ऐसे में यह आसानी से समझा जा सकता है किस तरह रायबरेली में दबंग प्रवृति के व्यक्तियों ने भूमि पर अवैध कब्जा का काला खेल खेल रहे हैं जिसकी जमीन पा रहे हैं उस पर अवैध कब्जा कर रहे हैं हालांकि जिला अधिकारी नेहा शर्मा लगातार कोशिश कर रही है कि ऐसी स्थितियों को नाकाम किया जाए लेकिन दबंग भू-माफियाओं के हौसले इतने बड़े हो चुके हैं वह ना तो अधिकारियों का दिशानिर्देश मान रहे हैं और ना ही कोई खौफ है। अब देखना होगा जिला अधिकारी और एसडीएम व पुलिस अधीक्षक क्या वर्षों जनता और शासन-प्रशासन के लिए अपनी कलम से सच लिखते आए क्षेत्रीय समाचार पत्र के संपादक को न्याय दिलाने में सफल होते हैं या नहीं!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *