श्रीनगर — जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटने के बाद तनावपूर्ण माहौल के बीच दुर्ग छत्तीसगढ़ की भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी पीडी नित्या (28 वर्षीया) श्रीनगर में अपनी ड्यूटी बखूबी निभाकर छत्तीसगढ़ का नाम रौशन कर रही है।
मूलत: दुर्ग (छत्तीसगढ़) पीडी नित्या 2016 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। उनके पिता दुर्ग रेलवे में थे और मां हाउस वाईफ है। एनआईटी रायपुर से केमिकल इंजीनियरिंग करने वाली नित्या की पहली नौकरी चँद्रपुर में सीमेंट फैक्टरी में लगी थी लेकिन वह नौकरी उसे अच्छा नही लगा। वहीं से यूपीएससी की तैयारी कर वह 2016 में आईपीएस में चयनित हुई। हाल ही में उनकी पोस्टिंग श्रीनगर में की गयी है। उन्हें राममुंशी बाग और हरवन दागची गांव के बीच निगरानी की जिम्मेदारी मिली है । करीब 40 किमी में फैला यह संवेदनशील ईलाका है। इस इलाके में न केवल पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र डल झील ही है, बल्कि राज्यपाल आवास और वो ईमारत भी है जहाँ जम्मू कश्मीर के नेताओं व वीआईपी VIP शख्सियतों को कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिहाज से नजरबंद किया गया है।

मुझे चुनौती पसंद — पीडी नित्या

कश्मीरी और हिन्दी भाषा को धाराप्रवाह बोलने वाली नेहरू पार्क के उपविभागीय पुलिस अधिकारी के पद पर तैनात नित्या कहती हैं- ‘मैं छत्तीसगढ़ के दुर्ग से हूँ जहाँ हमेशा शाँति रही है। लेकिन मुझे चुनौतियाँ बहुत पसंद है। यहाँ मुझे आम नागरिकों की सुरक्षा के साथ ही वीवीआईपी की सुरक्षा का भी ध्यान रखना पड़ता है। निश्चित तौर पर यह सब छत्तीसगढ़ में गुजारे मेरे जीवन से काफी अलग है। गौरतलब है कि नित्या श्रीनगर में तैनात अकेली आईपीएस अधिकारी है बाकी सभी अधिकारी जम्मू या लद्दाख में पदस्थ हैं।

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *