पिथौरा, प्रेस क्लब पिथोरा के अध्यक्ष रजिंदर खनूजा ने महासमुंद के पत्रकार दिलीप शर्मा पर भड़काऊ समाचार का मामला दर्ज करने की निंदा की है।एक पत्रकार द्वारा क्षेत्र के ग्रामीणों की समस्याएं एवम उनके द्वारा किये जा रहै आंदोलन एवम मांग का प्रकाशन करना भड़काने की श्रेणी में कैसे आ गया।जिस पुलिस थाना में दिलीप शर्मा के विरुद्ध रपट दर्ज करवाई गई और पुलिस ने भी ततपरता से एक पत्रकार दिलीप शर्मा को रात में ही उठा कर थाना ले जाया जाना कहाँ तक उचित है।इस थाना में कितने ऐसे मामले होंगे जिनमे पुलिस ने इतनी ततपरता से कार्यवाही की है।यदि इस तरह की समस्याओं की खबरे प्रकाशन भड़काने की श्रेणी में आता है।तब तो निश्चित प्रदेश के सभी पत्रकार इस श्रेणी में आ ही गए होंगे।क्यों कि सभी पत्रकारों का पहला धर्म तो यही है कि आम लोगो की समस्या को प्रकाशित कर उसे शासन प्रशासन तक पहुचाये जिससे समस्या का समाधान निकल सके।परन्तु आज की कार्यवाही ने आपात काल और हिटलर की कार्यवाही की याद ताजा कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *