छत्तीसगढ़ सीएम भूपेश बघेल के दो महीने में किए गए कार्यो की गूंज अब सात समंदर पार भी पहुंच गई है। आदिवासियों की अधिग्रहित जमीन को वापस लौटाने अभूतपूर्व फैसले के लिए ब्रिटिश संसद में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का सम्मान किय

ा जाएगा। यह सम्मान ब्रिटिश संसद हाउस और हाउस ऑफ लार्डस में 19 मई को किया जाएगा। इसके अलावा नरवा, घुरवा, गरुआ और बाड़ी के कांसेप्ट को अमलीजामा पहनाने के लिए भी उन्हें प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। यह पहला ऐसा मौका होगा जब छत्तीसगढ़ के किसी मुख्यमंत्री को इंग्लैंड के दोनों सदनों को संबोधित करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *