पहली तिमाही से 18-19 में भारतीय ऑटो मोबाइल मार्किट में गिरावट जारी अप्रैल में भी मुख्य ऑटो मोबाइल निर्माता को घाटा का सामना करना पड़ा मारुति को 4 से 5 % घाटा मार्च और अप्रैल में हुआ 8 साल में सबसे कम बिक्री दर्ज की जिसके कारण नौकरियों पर टोटा लग सकता है नौकरी जा सकती है।

पैसेंजर कार निर्माता को सबसे ज्यादा झटका लगेगा यह वक्त ऑटो मोबाइल पर भारी पड़ रहा है इकॉनमी की माने तो ऑटोमोबाइल का बहुत बड़ा हाथ होता है GDP ग्रोथ में 3 महीनों में कुल मुनाफे में घाटे की वजह से मारुति जैसी ऑटोमोबाइल कम्पनी ने 39% प्रोडक्शन घटा दिया जिससे हमारे देश में इससे रोजगारों पर संकट आएगा ।पैसेंजर कार की बिक्री में 17% गिरावट दर्ज की है । 8 साल के बाद सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज की है 2011 में 19.87%गिरावट दर्ज की थी।

सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मनुफैक्चर्स SIAM के मुताबिक 2019 में आंकड़ों के हिसाब से अप्रैल में वाहन की बिक्री में गिरावट आई है 2019 अप्रैल में सभी वाहनों 2 व्हीलर कार एवं कमर्शियल समेत 15.93 % गिर कर 20 लाख से अधिक रही बिक्री । 2018 अप्रैल में 23 लाख के लगभग थी।10 सालों के रिकार्ड में ऐसी गिरावट नही देखी।monthly sales index

19.61% गिर कर 131385 नंबर अप्रैल में रही मारुति में

10.12% को 42000 नंबर अप्रैल में रही हुंडई

08.52% महिंद्रा में दर्ज की गई ।

2 व्हीलर की 12.10%गिरावट दर्ज कर 534000 की बिक्री हुई है।

SIAM के श्री विष्णु माथुर का कहना है यह गिरावट बाजार से मुद्रा का खत्म होना GST की दरों में ऊपर नीचे और त्योहार के हिसाब से स्टॉक ज्यादा और बिक्री कम होना है यह स्तिथि और खराब होगी।इस कारण नौकरियों पर संकट भी मंडरा रहा है नई सरकार के आने की उम्मीद है स्थिति सही हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *